×
ऑडियो सुने
वीडियो देखे
इमेज देखे
कोट्स पढ़े
ब्लॉग पढ़े
लॉगिन करे
   

ॐ (om) का जन्म कैसे हुआ।

Wowplace4u
मुझे फॉलो करे।
 

हमारा सारा का सारा शब्दों का विस्तार इन तीन शब्दों से है। A,U और M का कोई अर्थ नही। अर्थ तो इनके संबंधो से तय होता है। इन तीन मूल ध्वनियों के जोड़ से ॐ OM बना दिया गया। तो हम को लिख भी सकते थे। लेकिन लिखने से शक पैदा होता की इसका कोई अर्थ है। लिखने से वो शब्द बन जाता।

तो शब्द की जगह पे ॐ का चित्र बनाया गया। उसमे कोई भी अक्षर का उपयोग नही किया गया। अगर आप उस के चित्र ध्यान से देखो गे। तो उसके भी तीन हिसे है। और वो A,U और M के प्रतिक है। इस चित्र की खोज भौतिक शरीर से नही की गई।

उसकी खोज चोथे शरीर से की गई है। अगर कोई साधक चोथे शरीर में जाता है। और बिलकुल निर्विचार हो जाता है। तो बहा पे अ,उ म की ध्वनियां गूंजने लगती है। और उन तीनो का जोड़ ॐ बनने लगता है।जब हमारे सरे विचार खो जाते है तो सिर्फ ध्वनियां ही शेष रह जाती है। हर शब्द का एक अपना ही पैटर्न है। अगर कोई साधक ॐ की ध्वनि को लगातार सुनता रहे तो। इसका चित्र भी प्रगट होना शुरू हो जाता है। इसी प्रकार सरे बिज मन्त्र खोजे गए।

जब एक एक चक्र पर जो ध्वनि होती है। जब उस ध्वनि को साधक सुनता है। तो उस चक्र Chakra का बिज रूप उस साधक की पकड़ में आ जाता है। सारे बीज इसी तरह निर्मित किये गए। और परम् बीज है। वो सातवे चक्र का बिज है। इस भांति इस शब्द को खोजा गया। स्वस्तिक बहुत बक्त से ॐ जैसा ही एक प्रतिक था। जेसे की सातवे का प्रतिक था। बेसे ही स्वस्तिक पहले का प्रतिक था। इसलिए स्वस्तिक का जो चित्र है। बह Dynamic है। मूव कर रहा है।

बह मूवमेंट Movement का प्रतिक है। और अंतिम का प्रतिक है। इसलिए उसमे मूवमेंट Movement बिलकुल भी नही है। क्योकि वो एक तरह की इलेक्ट्रिक फ़ोर्स है। कुछ जगह तो कुण्डलिनी Kundalini को अग्नि का प्रतिक समझा गया है। वो आग की तरह ही जले गई तुम्हारे भीतर। इससे आपके भीतर बहुत कुछ जलेगा।

 175 ने देखा Oct 15, 2019 
0
शेयर
0
कमेंट
0
लाइक
×
 
 
0 0
इन ब्लॉग को भी पड़ना मत भूलियेगा।
 
 
 
 

होम

सर्च

वीडियो

प्रोफाइल
×
कुछ मन पसंद का अपलोड करे ।
ऑडियो इमेज कोट्स ब्लॉग
Thank for Like
Download File Successfully
You Follow
Your report submit Successfully
Login First
You Successfully Unfollow
Copy Text Successfully