क्या हमारे शरीर की बीमारिया सच में है या की एक सम्मोहन का धोखा है।

आज से 60 साल पहले सभी बीमारिया शारीरिक बीमारिया समझी जाती थी। जितना हम बीमारी के बारे में जानते गए। हमे पता लगने लगा की जादातर बीमारिया शारीरिक नही, बल्कि मानसिक है। बड़े से बड़ा Doctor जहि कहे गा की हमारे शरीर की 50% बीमारिया मानसिक है। जाने की , मन के द्वारा बनाई गई है। उनका कोई अस्तित्व नही। और जो बीमारिया शरीरिक है। बह भी मन से ही प्रभावित होती है। मन ही हमारा Controlling Point है। बही से हम जीते है।बही से ही हमारा सारा व्यक्तित्व है। इसलिए संकल्प का बड़ा मूल्य है।

अपने यह सुना या देखा होगा। की अगर किसी Hypnotize ब्यक्ति के हाथ में एक पत्थर रख दिया जाये। और उसे कहे की यह जलता हुआ कोयला है।तो वो व्यक्ति उस पत्थर को बेसे ही फेंके गा जेसे किसी ने सच में जलता कोयला हाथ पर रख दिया हो। यहा तक तो बात ठीक थी की उसके मन को लगने लगा की बह कोयला है। पर आस्चर्य की बात तो यह है की उसके हाथ पर जलने का Nishan भी पड जाये गा। जेसा की जलता कोयला रखने पर आया होता। आस्चर्य की बात है। इसके पीछे का तर्क कहता है। की सम्मोहित ब्यक्ति का अचेतन मन जाग जाता है।और चेतन मन सो जाता है।और जिसका चेतन मन सो जाता है। बह संदेह करना बंद कर देता है।

क्योकि समस्त संदेह चेतन मन पर ही होते है। अगर हम हमारे मन के 10 भाग करे तो एक भाग चेतन है।और बाकि के 9 भाग अचेतन। यह 9 हिस्से अँधेरे में है। बस एक हिस्सा ही काम करता है। यह ही बिचार करता है। सोचता है।अगर ये चेतन मन सो जाये तो बाकि के 9 भाग सिर्फ स्वीकार करते है। बहा कोई बिचार नही। कोई भाग विरोध नही करता। तो सम्मोहित stage में आपके सोचने वाले मन को सुला दिया जाता है और बाकि के बचे मन विचार नही कर सकते। तो शरीर के पास मन को इंकार करने का कोई उपाय नही। अगर मन ने किसी चीज को पूरी तरह स्वीकार कर लिया । तो शरीर को वैसा ही करना पड़ेगा। इससे उल्टा भी हो सकता है।

एक गरम पत्थर को ठंडा कह कर आप अपने हाथ में रखो गए तो। वो आपके हाथ को नही जलाये गा। इसी बजह से फ़क़ीर और Sadhu संत अंगारो पे नंगे पैर चल पाते है। मन के संकल्प की बड़ी सम्भावनाये है। जो लोग जिंदगी में हार जाते है। उनके हारने की परस्थिति कम, होती है। और बह अपने मन की बजह से हार जाते है। आप जो होना चाहते है । आपके गहरे मन में पहले से ही बही भावना होती है। तो आप जेसा अपनी Zindgi में बनना चाहते है। वैसी ही भावना अपने मन में रखने की कोशिश करे

Related post

Mahatma Gandhi के बारे में यह 10 बाते जो आप नही जानते होंगे।
Mahatma Gandhi के बारे में यह 10 बाते जो आप नही जानते होंगे।
एक बेहतर Relationship के लिए आपको यह 2 बातो को जानना जरूरी है।
एक बेहतर Relationship के लिए आपको यह 2 बातो को जानना जरूरी है।
मंदिर-temples में जाने से पहले क्यों बजाते हैं घंटा या घंटी?
मंदिर-temples में जाने से पहले क्यों बजाते हैं घंटा या घंटी?
एक फ़क़ीर की कहानी जो आपको जिंदगी में बहुत कुछ सीखा जायेगी। Best moral stories for you
एक फ़क़ीर की कहानी जो आपको जिंदगी में बहुत कुछ सीखा जायेगी। Best moral stories for you
क्या सम्मोहन की सहायता से Meditation को प्राप्त किया जा सकता है|
क्या सम्मोहन की सहायता से Meditation को प्राप्त किया जा सकता है|
यह है दही खाने के 10 सबसे महत्वपूर्ण फायदे। 10 Benefits of Curd
यह है दही खाने के 10 सबसे महत्वपूर्ण फायदे। 10 Benefits of Curd
10 सबसे बेहतरीन Good Morning Message जिसे आप अपने दोस्तों को भेज करे दिन की अच्छी शुरुवात।
10 सबसे बेहतरीन Good Morning Message जिसे आप अपने दोस्तों को भेज करे दिन की अच्छी शुरुवात।
आप इन 3 तरीको से जान सकते हो की दूध असली है या नकली
आप इन 3 तरीको से जान सकते हो की दूध असली है या नकली

Leave A Comment