क्या सम्मोहन की सहायता से Meditation को प्राप्त किया जा सकता है|

दोस्तों आज हम इस ब्लॉग में जानेंगे की क्या Meditation को Hpnosis के द्वारा आसानी से प्राप्त किया जा सकता है।सम्मोहन एक विज्ञान है। इसका दो तरफ़ा इस्तेमाल हो सकता है। इसका प्रयोग कोई बुराई के ल

क्या आसन में बैठ कर Meditation करना बेहतर है।

आज हम जानेंगे की क्या Meditation करने के लिए किसी विशेष प्रकार के आसन का चयन करना जरूरी है। हमारे शरीर की हर स्थिति हमारे मन की स्तिथि से बहुत गहरे में जुडी है। जैसे की अगर आपको कहे की अपने खड़े होकर सोना है।

योग आसनो का जन्म गहरे Meditation की अवस्था में हुआ है।

Meditation ध्यान के गहरे अनुभव से ज्ञात हुआ की शरीर ध्यान में बहुत सी आकृतिया लेता है। असल से मन की दशा के अनुकूल शरीर की आकृति भी बदलती है। जैसे की प्रेम की स्थिति में आपका शरीर किसी होर दशा में होता है। और जब आप क

Meditation से अपनी जागरूकता (awareness) को कैसे बढ़ाया जा सकता है।

Meditation की मददत से क्या निरंतर होश में रहना संभव है। अगर आप निरंतर होश में रहने की बहुत चेष्ठा करेगे । तो आप कभी भी होश में नही रह सकते। क्योकि हर प्रयास थक जाता है, एक सीमा तक थकने के बाद वो समाप्त हो जाता है। अ

योगनिद्रा-Yoga Nidra एक ऐसी क्रिया है जिसे अपनाकर आप समस्त चिंताओं से मुक्त हो सकते हो।

योगनिद्रा-Yoga Nidra एक बहुत ही अनोखी विधि है जिसके द्वारा सरलता से अपनी समस्त चिंताओं से मुक्त हो सकते हो। योग की सारी क्रियाएँ हम जागृत अवस्था में करते है। लेकिन योगनिंद्रा इकलोती ऐसी क्रिया है जिसे हम लेट कर सकते

छठी इंद्री-Sixth Sense क्या होती है और इसके जागने पर क्या होता है

आईये जानते है Sixth Sense जाने की छटी इंद्रिय के बारे में। वैसे तो इंसान की पांच इंद्रियां होती हैं। >>> नेत्र >>> न

आभा मंडल-Aura क्या होता है और ये हमारी जिंदगी को कैसे प्रभावित करता है।

आभा मंडल-Aura शारीरिक की ऊर्जा का वीकरण है।इसका लेटीन भाषा मे अर्थ बनता है "सदैव बहने वाली हवा। यह हर व्यक्ति में स्थित होता है। किसी व्यक्ति का आभा मंडल बहुत ज्यादा होता है । तो किसी का ना के बराबर।

क्या Hypnosis की सहायता से Meditation को प्राप्त किया जा सकता है।

HYPNOSIS-सम्मोहन एक विज्ञान है। इसका दो तरफ़ा इस्तेमाल हो सकता है। इसका प्रयोग कोई बुराई के लिए भी कर सकता है। और किसी के भले के लिए भी किया जा सकता है। इसके जरिये आपके भीतर जो illutions है उनको

क्या हमारे शरीर की बीमारिया सच में है या की एक सम्मोहन का धोखा है।

आज से 60 साल पहले सभी बीमारिया शारीरिक बीमारिया समझी जाती थी। जितना हम बीमारी के बारे में जानते गए। हमे पता लगने लगा की जादातर बीमारिया शारीरिक नही, बल्कि मानसिक है। बड़े से बड़ा Doctor

साक्षी भाव का क्या अर्थ है। अगर आप जिंदगी में सफल बनना चाहते हो तो। इसे जानने की जरूरत है।

शरीर के प्रति Sakshi होना बहुत ही आसान है। आपके भीतर की चेतना आपसे अलग है। जेसे की अगर आप अपना हाथ उठा रहे हो। तो भीतर एक चेतना है जो की देख रही है की आप अपना हाथ उठा रहे हो।,जब आप रस्ते पर चल रहे

क्या आप जानते है की शक्तिपात करने का असली अधिकारी कौन होता है।

क्या कोई शक्तिपात कर सकता है। आपके दिमाग में ये Question बहुत बार आया होगा। इसमें एक बात समझने की है की। कोई शक्तिपात कर नही सकता। अगर बह कहता हो की में शक्तिपात करता हु तो। यह बिलकुल धोखे की बात है। शक्तिपात को कोई

आप अपने विचार के माध्यम से बस्तुओं को हिला सकते हो।

आप अपने विचार के माध्यम से बस्तुओं को हिला Telekinesis सकते हो। अगर आपको विश्वास नही हो रहा तो। एक छोटा सा प्रयोग करना। एक बंद कमरे में जहा हवा ना चल रही हो। एक पानी का बर्तन लेना और उसपर एक हलकी बस्तु रखे जो की पान

अगर जिंदगी में सफल होना चाहते हो। तो अवचेतन मन की शक्ति को जानना पड़ेगा।

आपका मन ही आपके सारे ब्यक्तित्व को चलाता है। बह जो कहता है। आप बही करते हो। आप उसके इशारो पर चलते हो। अगर आपको जीवन में सफल बनना है तो आपको अपने मन को समझने की जरूरत है।उसको अपने नियंत्रण में करने की जरुरत है। क्या आप अपने मन

आइये जानते जानते है सात Chakra और उनके रंगो के बारे में।

संस्कृत में chakra का अर्थ होता है घूमना या पहिया।चक्र एक प्रकार की शरीरिक ऊर्जा की कुण्डलिनी है। यह हमारे शरीर में ऊर्जा के परवाह को नियंत्रण करने में बड़ा सहयोगी होता है। यह हमारे शरीर में घूमते हुए। ऊर्जा के

हमारे दुखो-suffering का क्या कारण है और इनसे कैसे छुटकारा पाया जा सकता है।

आपके जीवन में कष्ठ-suffering होने का क्या कारण है। हम में से जादातर लोग कष्ठ मय जीवन जीते है । कियो की वो अपना जीवन अँधेरे में जीते है। जैसे की किसी अँधेरे कमरे मे

Gautam Buddha के दोबारा जन्म लेने का समय हो गया है।

सातवे शरीर के उपलब्धि के बाद अगला जन्म संभव नही। बह ब्यक्ति मोक्ष को प्राप्त होता है। पर Gautam Buddha ने कहा है। की में एक बार फिर जन

इन चार प्रयोगो को कर आप अपनी Sixth sence जागृत कर सकते है।

क्या है छठी इंद्री Sixth Sence का विज्ञान। यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिटिश कोलंबिया के एक अध्ययन के अनुसार छठी इंद्रिय के कारण ही हमें भविष्य में होने वाली घटनाओं का पूर्वाभास ह

Kundalini शक्ति के जागरण में रुकाबट का क्या कारण है।

हम अपनी पूरी Kundalini शक्ति का उपयोग नही करते। हम जो कुछ भी करते है। आधा आधा ही करते है। हमारे सारे जीवन की यही आदत है। हम जिसे प्रेम करते है। बह भी आधा ही करते ह

Kundalini जागने के बाद हमारे शरीर में कौन-कौन से परिवर्तन आते है।

Kundalini कुण्डलिनी जागने से शरीर में बड़े रूपांतरण होते है। जब कोई नई ऊर्जा शरीर में जगे गी। तो वो पूरे ऊर्जा को पूरी की पूरी रूपांतरण जरूर करे गी। जैसे की हमारा शरीर कई तरह के ब्यवहार कर रहा होता

हम अपने पिछले जन्म की बातो को भूल कियो जाते है- reincarnation meaning

होश Awareness से जन्म कैसे लिया जा सकता है। मतलब की आप अपनी इच्छा के अनुसार अपना अगला जन्म जहा भी लेने चाहते है। बहा ले सकते है। जैसे किसी अमीर के घर, किसी धर्म आत्मा क

क्या आप Meditation के सही मार्ग पर हो या Self Hypnosis का प्रभाव है।

सभी आध्यात्मिक उपलब्धियो का नकली पहलु भी है। जैसे की अगर असली कुण्डलिनी है। तो नकली कुण्डलिनी Kundalini भी है। अगर असली चक्र है तो नकली चक्र भी है। इन दोनों में फरक एक

मनुष्य शरीर की चेतना के सात स्तर कौन से होते है।

हमारे शरीर के सात 7 लेवल होते है। ये सात लेवल इस प्रकार है। जिस लेवल में हम जीते है। उसे conscious याने की चेतन

आईये जानते है आठ सिद्धियो के बारे में।

आठ सिद्धिया, यह शब्द तो अपने बहुत बार सुना होगा और हनुमान चालीस में भी इसका उलेख आता है। की अष्ट सिद्धि नव निधि के दाता। कहते है की हनुमान जी के पास यह आठ सिंधिया थी। क्या आप जानते है। की यह आठ सिंधिया कौन-कौन सी है। अगर

ब्रह्माण्डीय ऊर्जा- cosmic energy और हमारे शरीर की ऊर्जा में गहरा ताल मेल है।

हमारा सारा ब्रह्माण्ड Pure Cosmic Energy ऊर्जा का बना हुआ है। तो हम भी इसी ब्रह्माण्ड के हिसे है तो हमारा शरीर भी ऊर्जा का बना हुआ है। ऊर्जा सामान्यत 2 Type की होती है। सकरात्मक ऊर्जा और नकरात्

अपनी इच्छा शक्ति को बढ़ाने का सरलतम उपाय क्या है।

इच्छा शक्ति जो की हमारी जिंदगी का या कहे की जिंदगी में सफल होने के लिए एक बहुत ही जरुरी चीज है। जिस ब्यक्ति की इच्छा शक्ति जितनी मजबूत होगी। बह व्यक्ति अपनी जिंदगी में उतना ही

क्या आप अपने मन को जानते हो।

अपने बहुत बार कहा होगा की मेरा मन-Mind नही लग रहा। आज मेरा मन दुखी है। या आज मेरा मन घूमने को कर रहा है । क्या आप जानते है। की यह मन क्या चीज है। यह कोई हमारे शरीर का हिस्सा है। या कोई काल्पनिक हिस

व्यक्ति की श्रेष्ठा के जन्म में एकांत-peace की महत्वपूर्ण भूमिका है।

श्रेष्ठा का जन्म एकांत-Peace में ही होता है। मतलब की आप अपने जीवन में उच्चतम काम तभी कर पाओगे जब आप अपने एकांत की चरम सीमा को नही पाते। हर इंसान को आगे बढ़ने के लिए एकांत

क्या ज्योतिष विद्या से आप किसी के भविष्य को जान सकते हो।

ज्योतिष astrology विद्या एक बहुत ही अनोखी विद्या है। जिसके माध्यम से आप अपने भुत और भविष्य का बडी आसानी से लगा सकते है। क्या आप ज्योतिष विद्या को और गहराई से जानते है। की यह कैसे काम करती है। अगर नही तो वीडियो

कुंडलिनी शक्ति परमाणु शक्ति के समान है। जरा संभल के इसे जगाना।

योग के अभ्यास से हम कुंडलिनी को जागृत कर सकते है। यह करना बहुत कठिन बात नही। शास्त्रो में कुंडलिनी को सांप का प्रतिक माना जाता है। जैसे सांप जब सोई अवस्था में होता है। तब उसका कुछ पता नही लगता। और

अगर आपका योग में मन नहीं लग रहा तो इन पांच तरीको तो जरूर आजमाना

योग YOGA का अभ्यास, एक बहुत ही महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। योग के अभ्यास से आप अपने अंदर और बाहर की दुनिया के साथ अच्छे से तालमेल बिठा सकते हो। आप जितना गहरे योग में जाओगे। आप उतना ही अपने आप को प्रकृति के साथ गहर